सम्मेद शिखर जी पर केंद्र सरकार का बड़ा फैसला, पारसनाथ में नहीं होंगी पर्यटन एवं इको टूरिज्म गतिविधियां, जैन समाज ने पीएम मोदी का जताया आभार…

नई दिल्ली। जैन मतावलंबियों के आस्था के केन्द्र तीर्थराज सम्मेद शिखर जी को पर्यटन स्थल बनाए जाने के झारखंड सरकार के फैसले पर केंद्र सरकार ने रोक लगा दी है. आज यानी 5 जनवरी को केंद्र सरकार ने अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए नोटिफिकेशन जारी कर पारसनाथ की पहाड़ी पर सभी प्रकार की पर्यटन और इको टूरिज्म गतिविधियों पर रोक लगा दी.

 

झारखंड सरकार को इसके लिए तत्काल सभी जरूरी कदम उठाने का निर्देश दिया है. केंद्रीय संस्कृति, पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने सरकार के फैसले को ट्वीट करते हुए देशवासियों से यह जानकारी साझा की हैं.

 

 

ये भी पढ़ें…जैन समाज के प्रतिनिधिमण्डल ने राज्यपाल से की मुलाकात, सम्मेद शिखर जी को तीर्थ क्षेत्र घोषित करने पहल का किया आग्रह

 

 

जानकारी के लिए बता दें कि, झारखंड के गिरिडीह जिले में पारसनाथ पहाड़ी पर स्थित सम्मेद शिखरजी जैन समुदाय का सबसे बड़ा तीर्थस्थल है. समुदाय के सदस्य पारसनाथ पहाड़ी पर धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के राज्य सरकार के कदम का विरोध कर रहे थे.

 

केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने अगस्त 2019 में पारसनाथ अभयारण्य के आसपास एक पर्यावरण-संवेदनशील क्षेत्र अधिसूचित किया था और राज्य सरकार द्वारा प्रस्तुत प्रस्ताव के अनुसरण में पर्यावरण-पर्यटन गतिविधियों को मंजूरी दी थी.

 

मंत्रालय ने झारखंड सरकार के वन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव को एक कार्यालय ज्ञापन जारी किया, जिसमें कहा गया है कि पर्यावरण की दृष्टि से संवेदनशील क्षेत्र इस क्षेत्र में अधिसूचना के खंड तीन के प्रावधानों का कार्यान्वयन तत्काल रोका जाता है, जिसमें अन्य सभी पर्यटन और पर्यावरण-पर्यटन गतिविधियां शामिल हैं. राज्य सरकार को यह सुनिश्चित करने के लिए तुरंत सभी आवश्यक कदम उठाने का निर्देश दिया जाता है.

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने इस संबंध में राज्य सरकार को एक कार्यालय ज्ञापन भेजा है. केंद्रीय संस्कृति, पर्यटन मंत्री जी किशन रेड्डी ने सरकार के फैसले को ट्वीट किया –

 

 

 

वही इसी बीच जैन समूहों के प्रतिनिधियों ने इस फैसले के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार व्यक्त करने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कि और कहा कि केंद्र के इस फैसले से यह सुनिश्चित होगा कि उनके सबसे पवित्र तीर्थ स्थल की पवित्रता बनी रहेगी. हमारी चिंताओं को दूर कर दिया गया है और इस मुद्दे को हमारी संतुष्टि के अनुरूप सुलझा लिया गया है.

 

ये भी पढ़ें…नकली नोट के साथ पकड़े गए आरोपी, राजधानी में बड़ी तादाद में खपाने की थी तैयारी, 2000, 500 और 100 रूपए के मिले इतने नोट…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *