CM Baghel asked for donations on Chherchera festival : छेरछेरा महापर्व पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गली-गली में जाकर मांगा दान और फिर…

CM Baghel asked for donations on Chherchera festival

CM Baghel asked for donations on Chherchera festival

 

 

जनधारा 24 न्यूज डेस्क।CM Baghel asked for donations on Chherchera festival :

प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज मठपारा की गलियों में छेरछेरा मांगने पहुंचे।

CM Baghel asked for donations on Chherchera festival

अपने दरवाजे पर राज्य के मुखिया को देखते ही लोग धान, पैसे,

सब्जियां लेकर दौड़ पड़े। मुख्यमंत्री ने सभी के दान को ग्रहण किया

उसके बाद उसे वहीं के बच्चों को उपहार स्वरूप दे दिया।

तभी तो पूरे प्रदेश के लोग उनको प्यार से कका कहते हैं।

CM Baghel asked for donations on Chherchera festival :

रायपुर के मठपाड़ा की सड़कों पर नजारा कुछ और ही था।

छेरछेरा पर्व के मौके पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल झोला लेकर

गली-गली चंदा मांगते नजर आए। मुख्यमंत्री ने करीब आधे घंटे

सड़कों पर घूमकर सभी से दान इकट्ठा किया।

जिसके हाथ जो भी आया लेकर दौड़ा

मठपारा के लोगों ने जब मुख्यमंत्री बघेल को देखा तो वे अपने घरों से निकले

और उनकी झोली में अनाज, सब्जी आदि भेंट स्वरूप डाल दिए।

आलम ये था कि जिसके हाथ में जो भी आया लेकर सीएम की ओर दौड़ पड़ा।

प्रदेश के मुखिया ने भी हंसते हुए सभी का दान ग्रहण किया।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने उपस्थित बच्चों को उपहार स्वरूप राशि भी प्रदान की।

बच्चों ने कका से छेरछेरा का दान पाकर जमकर खुशी मनाई।

तभी तो पूरे राज्य के लोग उनको प्यार और सम्मान से कका कहते हैं।

दूधाधारी मठ में मांगी प्रदेश की शांति

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छेरछेरा पर्व के अवसर पर शुक्रवार को

दूधाधारी मठ पहुंचकर पूजा-अर्चना की ।

सीएम ने वहां प्रदेशवासियों की सुख-समृद्धि की कामना कीं।

इस अवसर पर सभी को छेरछेरा की बधाई देते हुए बघेल ने

कहा कि छेरछेरा पर्व हमें एक महान संदेश देता है।

राज्य के मुखिया ने बताया दान का महत्व

इस दिन उपहार दिए जाते हैं और स्वीकार भी किए जाते हैं।

दान देना उदारता का प्रतीक है और दान लेना

अहंकार को नष्ट करने का प्रतीक है।

छेरछेरा में दान की गई राशि को जनकल्याण

में खर्च किया जाता है।

राज्य सरकार ने दी सभी तीज-त्यौहारों पर छुट्टी

मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि हमारी सरकार ने

सभी तीज त्योहारों पर छुट्टी दी है।

छत्तीसगढ़ में तीजा, पोरा, हरेली और अन्य तीज-त्योहार

जैसे सभी त्योहार हम मुख्यमंत्री आवास पर मनाते हैं।

Read More: New Warrior will be posted on INS Vikrant :आईएनएस विक्रांत पर तैनात होगा ये नया योध्दा, जानें इसका war power

उन्होंने कहा कि किसान खेत में फसल पैदा करते हैं

और सभी के लिए भोजन उपलब्ध कराते हैं।

अन्नदाता से किसान सहित सभी वर्ग

अनाज दान करते हैं।

प्रदेश में 85 लाख टन हुई धान खरीदी

मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान बालाजी की कृपा से इस वर्ष बहुत अच्छी उपज हुई है।

अब तक 85 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद हो चुकी है,

और एक भी किसान ने शिकायत नहीं की है।

सभी किसानों को तत्काल भुगतान भी कर दिया गया।

कार्यक्रम के पूर्व मुख्यमंत्री का कच्ची मछली से वजन भी किया गया।

उल्लेखनीय है कि दूधाधारी मठ परिसर में हर साल की

तरह छेरछेरा पुन्नी मेले का आयोजन किया जाता है,

जिसमें बड़ी संख्या में लोग दान देने व

लेने के लिए उपस्थित होते हैं।

प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के

इस छेरछेरा मांगने की चर्चा हर साल होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *