CG no confidence motion: सदन में गरमाया महौल, अविश्वास प्रस्ताव पर विपक्ष ने रखी बातें… तो सत्तापक्ष ने दे दिया यह जवाब

no confidence motion,rahul gandhi on no confidence motion,no confidence motion in parliament live,no-confidence motion,tdp no confidence motion,bjp no confidence motion,motion of no confidence,no confidence motion lok sabha,process of no confidence motion,imran khan no confidence motion,no confidence motion parliament,parliament no confidence motion,no confidence motion in lok sabha,chhattisgarh no confidence motion,narendra modi no confidence motion

no confidence motion,rahul gandhi on no confidence motion,no confidence motion in parliament live,no-confidence motion,tdp no confidence motion,bjp no confidence motion,motion of no confidence,no confidence motion lok sabha,process of no confidence motion,imran khan no confidence motion,no confidence motion parliament,parliament no confidence motion,no confidence motion in lok sabha,chhattisgarh no confidence motion,narendra modi no confidence motion

रायपुर| (CG no confidence motion) छत्तीसगढ़ में विधानसभा मानसून सत्र का आज छठवां व अंतिम दिन है, वहीं आज सदन में सबसे ज्यादा हंगामे देखने को मिल रहे है. सदन में कई मुद्दों पर चर्चा की गई है और प्रश्नकाल के दौरान कई बार माहौल भी गरमा गया है. वहीं विपक्ष ने सरकार को अपने प्रश्नों और रणनीति के साथ घेरने की पूरी कोशिश की है और अब भी कर रहा है. इसी के साथ अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा जारी है.

आसंदी ने बृजमोहन अग्रवाल से समय का ध्यान रखने की बात कही है. इसी के साथ सत्तापक्ष के सदस्यों ने भी टिप्पणी की है मगर भाजपा सदस्यों ने इसपर आपत्ति जताई है.

(CG Vidhansabha no confidence motion) इस मुद्दे पर चर्चा करते हुए सीएम भूपेश बघेल ने कहा की समय का ध्यान रखना आसंदी की व्यवस्था है. इस पर नाराज होने का कोई सवाल नही है.

वहीं इस बात पर नेताप्रतिपक्ष ने कहा कि जिस तरह सत्ता पक्ष रोकटोक करा रहा है उससे ऐसा लगता है सत्ता चर्चा से डर रहा है. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि सदन के नेता खड़े होकर बात रखने लगे तो आप लोग खड़े होकर मर्यादा तोड़े. नेता प्रतिपक्ष आप ऐसे सदन चलाना चाहते हैं. जितना आरोप लगाना है जितना बात कहना है कहे – सीएम ने कहा.

वहीं उन्होने आगे नेता प्रतिपक्ष को कहा आप जैसा चलाना चाहेंगे वैसा सदन में नहीं चलेगा. इस बीच बीजेपी सदस्य ननकीराम कंवर ने सीएम से कहा की आपका कोई विधायक, मंत्री तो मानने वाला सुनने वाला नहीं है.

इस बात को लेकर सत्तापक्ष ने आपत्ति जताई है. ननकीराम कंवर ने आगे कहा की अपने खिलाफ सुनने की हिम्मत रखिए.

जिसे लेकर फिर पक्ष विपक्ष में तीखी नोकझोंक हो रही है. आसंदी ने कहा अपने अपने समय में सब अपनी बात रखें. कोई दूसरा बोल रहा है तो उसमें टोका टाकी ना करे.

सदन में गरमाया मुद्दा

(CG Vidhansabha no confidence motion) बृजमोहन अग्रवाल ने कहा मैं 33 सालों से सदन की कार्रवाही में शामिल हो रहा हूँ. 10 बार अविश्वास प्रस्ताव की चर्चा में शामिल हुआ हूँ. आज तक कभी चर्चा को रोकने की कोशिश नहीं हुई. ये अजीब नजारा है सरकार हमको बोलने नहीं दे रही है.

वहीं मुद्दे पर अब भी चर्चा जारी है.

चर्चा की शुरुआत में

(CG Vidhansabha no confidence motion) वहीं अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा की शुरुआत में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने आरोप पत्र को पटल पर रखा था और बीजेपी सदस्य बृजमोहन अग्रवाल ने इस मुद्दे पर चर्चा शुरू की थी.

पूर्व मंत्री ने कहा सत्ता में बैठे हुए लोगो को भी मालूम नहीं चलता है की सरकार में क्या चल रहा है. हम जो कह रहे हैं उसको सरकार गंभीरता से लें इसमे नाराज होने की जरूरत नही है. ये सरकार एक ऐसा कुनबा है इसे कुनबे में लठ चल रहे है. इस कुनबे में मुख्यमंत्री को मंत्री पर विश्वास नहीं है. मंत्री को मुख्यमंत्री पर विश्वास नहीं है. प्रशासन को शाशन पर विश्वास नहीं है. हमारे अविश्वास प्रस्ताव लाने के पहले एक मंत्री ने अविश्वास प्रस्ताव लाया.

उन्होने आगे कहा की कोई मंत्री अगर मुख्यमंत्री पर आविश्वास प्रस्ताव लाता है तो क्या उस मंत्री को मंत्रिमंडल में रहने का अधिकार है. इस सरकार के पास बताने के लिए कुछ नही है. ये दिल्ली यूपी बिहार की बात करती है. इनके मंत्री ने आरोप लगाया है कि गरीबों के मकाने नहीं बन रहे हैं. यह पहला सत्र है जो वीरगति को प्राप्त होगा जो पूरा हो रहा है. कांग्रेस सरकार आने के बाद एक भी सत्र पूरा नहीं हुआ. हमें पता है हमारे अविश्वास प्रस्ताव का हश्र क्या होगा.

इसपर गहरी चर्चा करते हुए विपक्ष ने कहा की ये अविश्वास प्रस्ताव सरकार को जनता के बीच में नंगा कर देगा. एक विधायक इनके मंत्री के ऊपर आरोप लगाता है कि मंत्री हमारा हत्या कराना चाहता है. इन बातों को अगर हम नहीं उठाएंगे तो छत्तीसगढ़ अत्याचार का केंद्र बन जाएगा.

वहीं सदन में अब भी मुद्दा पर चर्चा चल रही है.

खोमन साहू

Read More- Omicron Symptoms ‘Cold-Like’: What Does UK Study Say on COVID Variant?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *