28.2 C
Chhattisgarh
Sunday, September 25, 2022

Apple iPhone 14 के दामों को लेकर आया ये बड़ा अपडेट ….. पढ़कर चौंक जाएंगे आप

- Advertisement -spot_imgspot_img

जनधारा 24 न्यूज़ डेस्क। Apple iPhone 14 : दो अरब से थोड़ा अधिक, हम किसी देश की जीडीपी या जनसंख्या की बात नहीं कर रहे हैं।

हम बात कर रहे हैं आज तक दुनियाभर में बिकने वाले आईफोन की।

2007 में पूरी दुनिया के सामने आने के बाद से Apple ने इतने सारे iPhone बेचे हैं।

सब कुछ ठीक है, लेकिन हम भारतीयों के लिए एक दर्द है जो 15 साल बाद भी कम नहीं हुआ है।

आईफोन बहुत महंगा है!

इतना महंगा कि इंसान को अपनी किडनी तक बेचनी पड़े!

कभी ये बात मजाक में कही जाती थी ।

दरअसल, एपल ने भी कई वादे किए थे।

चेन्नई के पास श्रीपेरंबदूर में अपनी सहायक कंपनी फॉक्सकॉन के साथ भी उत्पादन शुरू किया।

लेकिन परिणाम ढाक के वही तीन पत्ते हैं।

फिर भी हमें अन्य देशों की तुलना में मोटी रकम चुकानी पड़ती है।

लेकिन अब एक उम्मीद है। होप कहेंगे क्योंकि टेक दिग्गज ने कहा है कि

वे लॉन्च के दो महीने बाद ही भारत में iPhone 14 सीरीज का उत्पादन करेंगे।

अब iPhone 14 को 7 सितंबर को लॉन्च कर दिया गया है,

इसलिए हमें दिवाली तक मेड इन इंडिया आईफोन मिलेगा।

Apple iPhone 14 क्या यह सस्ता होगा ?

Apple iPhone 14

सवाल अब भी वही है। क्या यह सस्ता होगा? अगर यह सस्ता है, तो कितना?

हजार-दो हजार का चेहरा दिखेगा या सच में कम पैसे खर्च होंगे?

इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए, आइए पहले iPhone उत्पादन के गुणन के गणित को समझते हैं।

Where is the Apple iPhone 14 made?

 

IPhone बनाना पुर्जों को इकट्ठा करने से शुरू होता है।

एक आईफोन में कुल 200 पार्ट होते हैं। चिप से मेमोरी तक,

कैमरे से बैटरी तक।

इन भागों को दुनिया भर में कई अलग-अलग आपूर्तिकर्ताओं से खरीदा जाता है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि

लड़ते रहने वाला एपल इसका सबसे बड़ा सप्लायर है।

सैमसंग। Apple सैमसंग के बिना काम नहीं करेगा।

कोई आश्चर्य नहीं, यूरोप से लेकर अमेरिका तक,

जहां आईफोन के पुर्जे आते हैं,

सबसे बड़ा हिस्सा, लगभग 26.8 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया से आता है।

सभी पुर्जे चीन में Apple के प्रोडक्शन पार्टनर फॉक्सकॉन के कारखाने में भेजे जाते हैं।

चीन के झेंग्झौ में स्थित इस प्लांट को आईफोन सिटी भी कहा जाता है।

यहां करीब 3.5 लाख कर्मचारी काम करते हैं,

जो हर मिनट औसतन 350 आईफोन बनाते हैं।

सभी 400 चरणों के बाद, एक iPhone तैयार है,

जिसमें पॉलिशिंग, सोल्डरिंग, ड्रिलिंग और फिटिंग शामिल है।

एक दिन में आधा मिलियन से अधिक iPhones बनाए जाते हैं।

पैकिंग के बाद इन्हें अमेरिका समेत दुनिया के दूसरे देशों में भेजा जाता है।

इसके लिए करीब पांच किलोमीटर की दूरी पर ही अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनाया गया है।

एक बात ध्यान देने योग्य है।

आईफोन को फॉक्सकॉन प्लांट से शंघाई पहुंचने में जितना समय लगता है,

उतना ही सैन फ्रांसिस्को पहुंचने में लगता है।

क्या हुआ, मेरा दिमाग घूम गया?

दरअसल, iPhone ट्रक में शंघाई जाते हैं।

जिसमें दो से तीन दिन का समय लगता है।

वहीं, फ्लाइट के जरिए अमेरिका पहुंचने में लगभग इतना ही समय लगता है।

 

Apple iPhone 14 : भारत में क्या स्थिति है?

वर्षों बाद, भारत में 2017 में iPhone SE के साथ उत्पादन शुरू हुआ है।

Apple के तीन साझेदार Foxconn, Wistron और Pegatron

चेन्नई के पास श्रीपेरंबदूर में iPhones बनाते हैं।

iPhone 11, iPhone 12 और iPhone 13 का निर्माण भी यहीं होता है।

जैसा कि हमने बताया iPhone 14 को भी यहां बनाया जाएगा।

पिछले साल आईफोन 13 का प्रोडक्शन लॉन्च के करीब सात महीने बाद शुरू हुआ था,

लेकिन नया आईफोन सिर्फ दो महीने में बन जाएगा।

साल 2021 में 75 लाख आईफोन भारत में बने थे

और कंपनी इस साल इसे 1 करोड़ से ऊपर ले जाने की उम्मीद कर रही है।

Will the Apple iPhone 14 be cheaper?

दुख की बात है, लेकिन सच्चाई यह है कि ऐसा नहीं होगा।

वैसे, एप्पल जितना आईफोन उत्पादन की उम्मीद कर रही है,

वह भारत की कुल मांग का 85 प्रतिशत पूरा कर सकता है।

लेकिन गौर करने वाली बात यह है कि भारत में सिर्फ असेंबलिंग होती है।

यानी वे दुनिया से पार्ट लाकर तय किए गए हैं।

यहां कुछ नहीं होता है।

इन पुर्जों पर जिन्हें ओईएम (ओरिजिनल इक्विपमेंट मैन्युफैक्चरर्स) कंपोनेंट्स कहा जाता है।

उन पर भारी आयात शुल्क लगाया जाता है। जीएसटी और अन्य कर अलग हैं।

वर्तमान में, भारत में Apple iPhone और

अन्य उत्पादों को बेचने के लिए तीसरे पक्ष के खुदरा नेटवर्क पर निर्भर है,

जिससे iPhone की लागत बढ़ जाती है।

आयोग बाबू भैया आयोग!

वर्तमान में, कंपनी केवल ऑनलाइन बिक्री का निर्देशन करती है।

फिलहाल भारत में बना है आईफोन 13

आईफोन की कहानी का लब्बोलुआब यह है कि आज भी

भारत में आईफोन लेने के लिए या तो कर्ज लेना पड़ता है

या किडनी बेचनी पड़ती है।

गुर्दा की बात अभी भी मजाक है!

वैसे थोड़ा खुश हो जाओ। हम दुनिया के सबसे महंगे iPhone वाले देशों की लिस्ट में तीसरे नंबर पर आ गए हैं।

खुश हूं क्योंकि पहले हम दूसरे नंबर पर थे।

पहले ब्राजील था लेकिन अब तुर्की पहले आ गया है। हम हंगरी और पोलैंड से पीछे हैं।

Latest news
Related news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here