ऋचा जोगी के समर्थन में उतरा बीजेपी, नेताप्रतिपक्ष नारायण चंदेल ने कही ये बात, जानें

रायपुर । छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री अजीत जोगी की बहु ऋचा जोगी के खिलाफ जाति प्रमाण को लेकर एफआईआर दर्ज हुआ है। बता दें कि इससे पहले भी पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की जाति को लेकर हमेशा विवाद  होता रहा है। लगातार इस मामले में  राजनीतिक दल के नेता  सवाल उठाते रहे हैं।

वहीं एफआईआर को लेकर नेताप्रतिपक्ष नारायण चंदेल का बयान सामने आया है। नेताप्रतिपक्ष का कहना है कि फर्जी जाति प्रमाण पत्र के मामले का फैसला न्यायालय करता है। राजनीतिक द्वेष से किसी नेता के ऊपर न्यायालय का फैसला आए बिना एफआईआर नहीं करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सरकार को दमनकारी नीति नहीं अपनानी चाहिए। छत्तीसगढ़ में कोई आपातकाल लागू नहीं यह संवैधानिक मामला है।

यह भी पढ़ें …

मंत्रालय में गांधी प्रतिमा लगाने को लेकर भाजपा सदस्यों ने किया हंगामा,सदन में लाया स्थगन प्रस्ताव

मरवाही उपचुनाव के समय उठा था मुद्दा

गौरतलब है कि मरवाही उपचुनाव के दौरान ऋचा जोगी की जाति का मुद्दा उठा था। साथ ही मरवाही उपचुनाव में उनका जाति प्रमाण पत्र रद्द कर दिया गया था। अब इस मामले में ऋचा जोगी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के निधन के बाद जोगी परिवार ने मरवाही सीट पर उपचुनाव में ऋचा जोगी को उतारने का फैसला किया था। इसके बाद संत कुमार नेताम की ओर से ऋचा जोगी की जाति को लेकर याचिका दायर की गई थी।

अधिनियम, 2013 की धारा 10 के तहत अपराध दर्ज किया गया

मरवाही उपचुनाव के दौरान ऋचा जोगी का अनुसूचित जनजाति प्रमाण पत्र निरस्त कर दिया गया था। इस  मामले में राज्य स्तरीय जांच समिति के निर्देश पर अब सामाजिक स्थिति प्रभाव अधिनियम, 2013 की धारा 10 के तहत अपराध दर्ज किया गया है।

जोगी कांग्रेस के कांग्रेस पार्टी में विलय को लेकर भी कयास

बता दें कि यह कार्रवाई ऐसे समय में हुई है जब छत्तीसगढ़ में भानुप्रतापपुर उपचुनाव में जोगी कांग्रेस ने सावित्री मंडावी को समर्थन देने की बात कही है।  इसके बाद जोगी परिवार की बहू के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। इतना ही नहीं जोगी कांग्रेस के कांग्रेस पार्टी में विलय को लेकर भी कयास लगने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *