बड़ी राहत: डोर टू डोर पहुंचेगी रसोई गैस, इन 13 जिलों में बिछ रही गैस पाइपलाइन…

 

रायगढ़।  डोर टू डोर रसोई गैस पहुंचाने के लिए पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय नागपुर से झारसुगड़ा तक गैस पाइपलाइन बिछा रहा है। इसमें रायगढ़ सहित प्रदेश के 13 जिले शामिल हैं। गैस पाइप लाइन के लिए रायगढ़, पुसौर और खरसिया ब्लाक में सर्वे किया जा रहा है। जिले में 40 किलोमीटर अंडरग्राउंड गैस पाइप लाइन बिछाया जाएगा।

अंडर ग्राउंड  में पाइपलाइन बिछाने के लिए सर्वे

दरअसल पेयजल की तरह अब लोगों के घरों में अंडरग्राउंड पाइपलाइन के जरिए रसोई गैस उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने नागपुर से झारसुगड़ा तक गैस पाइप लाइन बिछा रहा है। इसमें रायगढ़ सहित प्रदेश के 13 जिले शामिल हैं। जिले के खरसिया, रायगढ़ और पुसौर तहसील से जुड़े गांवों के जमीन के अंडर ग्राउंड  में पाइपलाइन बिछाने के लिए सर्वे किया जा रहा है। जिन किसानों की जमीनों पर अंडरग्राउंड गैस पाइपलाइन बिछाना है, उनसे सहमति लेकर सरकारी दर के मुताबिक मुआवजा दिया जाएगा। जमीन का अधिग्रहण नहीं होगा। किसान अपने खेत का उपयोग कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें…

प्रदेश में कांग्रेस ने पूछा, तेल-रसोई गैस के बढ़े दाम पर क्यों चुप हैं भाजपा नेता

पेट्रोलियम एंड नेचुरल गैस अथॉरिटी बोर्ड दिल्ली ने जो प्रोजेक्ट बनाया है। उसमें नागपुर से झारसुगड़ा तक पाइपलाइन बिछेगी। रायपुर, राजनांदगांव, धमतरी, महासमुंद, सरगुजा, कवर्धा, जशपुर, बिलासपुर, कोरबा, रायगढ़, जांजगीर चांपा, बेमेतेरा, दुर्ग जिलों को शामिल किया गया है।

2024-25 तक शहरी इलाकों के हर घरों में पाइपलाइन से गैस वितरण शुरू

बता दें कि केन्द्र सरकार की प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना के तहत इस स्कीम को जोड़ा गया है। कहा जा रहा है कि 2024-25 तक शहरी इलाकों के हर घरों में पाइपलाइन से गैस वितरण शुरू कर दिया जाएगा। रायगढ़, पुसौर और खरसिया ब्लॉक के पटेलपाली, दर्रामुड़ा, धनागर, कुनकुनी जैसे कई पंचायतों से हो कर पाइपलाइन बिछाया जाना है।

पहले शहरी इलाकों में ही इसकी सुविधा मिलने की बात कही जा रही है, जिसमें पहले चरण में रायगढ़, खरसिया जैसे शहरों में ही लोगों को कनेक्शन मिलेंगे।

यह भी पढ़ें…

25 दिनों में तीसरी बार बढ़े रसोई गैस के दाम, रायपुर में कीमत 865 रुपये 50 पैसे

इस संबंध में रायगढ़ एसडीएम का कहना है गैस पाइपलाइन बिछाने के लिए जमीन का सर्वे किया जा रहा है। प्रारंभिक सर्वे है, कितनी जमीन प्रभावित होगी यह सर्वे पूर्ण होने पर ही पता चलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *