World Fisheries Day : मछली पालन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ को मिला ‘बेस्ट इनलैंड स्टेट‘ और ‘बेस्ट प्रोप्राइटरी फर्म‘ का राष्ट्रीय पुरस्कार

 

रायपुर। World Fisheries Day :  आज अलग-अलग देशों में  ‘वर्ल्ड फिशरीज डे’ यानि  विश्व मत्स्य दिवस मनाया जा रहा है। जिसकी  स्थापना साल 1997 में, नई दिल्ली में 18 देशों के प्रतिनिधियों के साथ “फिश हार्वेस्टर्स एंड फिश वर्कर्स का वर्ल्ड फोरम” ने विश्व मत्स्य दिवस मानाने की घोषणा की।

वहीं विश्व मत्स्य दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ राज्य को आज दमन में  मत्स्य पालन के क्षेत्र में बेस्ट इनलैंड स्टेट का पुरस्कार मिला है। राष्ट्रीय मात्स्यिकी विकास बोर्ड ने राष्ट्रीय पुरस्कार दिए जाने का यह कार्यक्रम स्वामी विवेकानंद ऑडिटोरियम दुनेथा दमन में आयोजित किया ।

यह पुरस्कार प्रदेश की ओर से मत्स्य विभाग के संचालक  एन एस नाग ने ग्रहण किया। अतिथियों की मौजूदगी में छत्तीसगढ़ राज्य को ‘बेस्ट इनलैंड स्टेट‘ अवार्ड सम्मान के रूप में 10 लाख रूपए का पुरस्कार व स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया गया।

यह भी पढ़ें …

World Toilet Day 2022: इस थीम पर मनाया जा रहा है विश्व शौचालय दिवस

 

इस मौके पर छत्तीसगढ़ राज्य के धमतरी जिले के बगौद गांव के मत्स्य पालन फर्म भारत बाला एक्वाकल्चर को भी ‘बेस्ट प्रोप्राइटरी फर्म‘ के रूप में दो लाख रूपए का पुरस्कार व स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया गया।

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल, कृषि मंत्री  रविन्द्र चौबे ने मत्स्य पालन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ राज्य को राष्ट्रीय स्तर का एक साथ दो सम्मान मिलने पर विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों सहित मत्स्य पालन के क्षेत्र से जुड़े सभी लोगों को बधाई दी है। आइये जानते हैं क्यों मनाया जाता है आखिर मत्स्य दिवस…।

विश्व मत्स्य दिवस क्यों मनाया जाता है?

पूरी दुनिया में मछुआरा समुदाय इस दिन को मनाते है। यह स्वस्थ समुद्री ecosystem के महत्व को उजागर करने और दुनिया में मत्स्य पालन के स्थायी भंडार को सुनिश्चित करने के लिए मनाया जाता है।

विश्व मत्स्य दिवस का उद्देश्य स्वस्थ महासागर ecosystem के महत्व को उजागर करना है। यह दुनिया में मत्स्य पालन के स्थायी स्टॉक को भी सुनिश्चित करता है।

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया की दो तिहाई से ज्यादा मछलियां विलुप्त हो चुकी हैं। यह एक तिहाई से अधिक गिरावट परिस्थितियों के कारण है, जैसे कि आवश्यक मछली आवासों का नुकसान, प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग।

भारत में मत्स्य पालन:

मत्स्य पालन देश की खाद्य सुरक्षा में योगदान देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है जो लाखों लोगों को रोजगार प्रदान करता है।

भारत में 8,000 किमी से अधिक समुद्र तट, २ मिलियन किमी से अधिक का एक विशेष आर्थिक क्षेत्र (ईईजेड) और व्यापक मीठे पानी के संसाधन हैं।

मत्स्य पालन भारतीय अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है क्योंकि यह सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में लगभग 1.07% का योगदान देता है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *