Former IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India : ये IASअफसर बने भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त, जानिए इनके बारे में

IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India :

IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India :

जनधारा न्यूज डेस्क। Former IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India :

किस IAS अधिकारी ने संभाला भारत के मुख्य निर्वाचन आयुक्त का पदभार ?

क्या है इस नौकरशाह की खासियतें ?

कहां के रहने वाले हैं भारत के नए मुख्य निर्वाचन आयुक्त ?

सब कुछ आपको बताएंगे, बस आप बने रहिए जनधारा 24 के साथ-

Former IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India : 

पूर्व नौकरशाह (आईएएस) अरुण गोयल ने सोमवार को नए चुनाव

आयुक्त का पदभार संभाल लिया।

गोयल पंजाब कैडर के 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।

उन्होंने 18 नवंबर को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली थी।

हालांकि, उन्हें 31 दिसंबर, 2022 को 60 साल के

होने के बाद सेवानिवृत्त होना था।

अरुण गोयल को मुख्य चुनाव

आयुक्त राजीव कुमार और चुनाव आयुक्त अनूप चंद्र पांडेय के

साथ चुनाव आयोग का हिस्सा बनाया गया है।

पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी)

सुशील चंद्र के 14 मई को राजीव कुमार को प्रभार सौंपने के बाद

सेवानिवृत्त होने के बाद यह पद खाली पड़ा था।

जानिए नए चुनाव आयुक्त के बारे में ये प्रमुख बातें

 IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India :
IAS officer who became the Chief Election Commissioner of India :

अरुण गोयल अपनी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति तक भारी उद्योग सचिव के रूप में कार्यरत थे।

इससे पहले उन्होंने केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय में भी काम किया था।
अरुण गोयल पंजाब कैडर के 1985 बैच के आईएएस अधिकारी हैं।

उन्हें 31 दिसंबर को 60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त होना था,

Read More : BJP state in-charge Mathur reached Raipur : BJP के प्रदेश प्रभारी माथुर पहुंचे रायपुर, विमानतल पर हुआ जोरदार स्वागत

लेकिन बीते शुक्रवार को उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली।
अरुण गोयल की नियुक्ति गुजरात में चुनाव से कुछ दिन पहले हुई है।

गुजरात में राजनीतिक मुकाबला सत्तारूढ़ बीजेपी,

विपक्षी कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच है।

क्या है इस नौकरशाह की खासियतें

माना जा रहा है कि अरुण गोयल भी

मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) बनने की कतार में हैं।

जब राजीव कुमार फरवरी 2025 में अपना कार्यकाल छोड़ रहे हैं।

गोयल के कार्यभार संभालने के साथ ही चुनाव आयोग के पास

अब अगले साल होने वाले चुनावों का कार्यक्रम

तय करने का पूरा अधिकार होगा।

अगले वर्ष कर्नाटक, तेलंगाना और पूर्वोत्तर राज्य नागालैंड,

मेघालय और त्रिपुरा हैं।

इन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं।

 

कहां के निवासी हैं गोयल

बता दें कि गोयल मूल रूप से पटियाला के रहने वाले हैं।

उनके पिता पंजाबी यूनिवर्सिटी में गणित के प्रोफेसर थे।

गोयल शुरू से ही पढ़ाई में काफी होशियार थे

और पटियाला के मोदी कॉलेज में बीए में टॉपर थे।

आईएएस बनने के बाद गोयल पंजाब और केंद्र में

कई अहम पदों पर रह चुके हैं।

वहीं अब उन्हें मुख्य चुनाव आयुक्त बनकर

केंद्र में नई जिम्मेदारी दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *