WhatsApp took action : 23 लाख से ज्यादा भारतीय अकाउंट पर लगाया ताला, जानिए आखिर क्यों

WhatsApp took action: 

WhatsApp took action: 

 

जनधारा 24 न्यूज डेस्क ।WhatsApp took action: 

WhatsApp  ने महज एक महीने में 23. 24 लाख अकाउंट पर ताला लगा दिया।

WhatsApp  ने ये कार्रवाई 1 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच की है।

व्हाट्सएप के इस कदम से लोगों में हड़कंप मचा हुआ है।

लोग तरह-तरह के सवाल कर रहे हैं।

व्हाट्सएप ने क्यों इतनी बड़ी संख्या में अकाउंट बैन किए ?

इसके पीछे क्या कारण है ?

सब कुछ आपको बताएंगे,

बस आप बने रहिए जनधारा 24 के साथ-

 

WhatsApp took action : 23 लाख से ज्यादा भारतीय अकाउंट पर लगाया ताला,

यूजर्स की शिकायत मिलने के बाद इन

वॉट्सऐप अकाउंट्स को बैन कर दिया गया था।

23 लाख खातों में से 8,11,000 खातों को यूजर की

शिकायत से पहले ही कंपनी ने बैन कर दिया था।

इन खातों को प्लेटफॉर्म की नीति और

नियमों का पालन नहीं करने के कारण प्रतिबंधित किया गया था।

WhatsApp took action: 
WhatsApp took action:

वॉट्सऐप ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि

भारतीय यूजर्स ने शिकायत तंत्र के तहत

इन खातों की शिकायत की थी।

अक्टूबर माह में कंपनी को 701

शिकायत रिपोर्ट प्राप्त हुई थी।

इनमें से 34 खातों पर कार्रवाई की गई।

रिपोर्ट में बताया गया है कि यूजर्स को सेफ

स्पेस देने के लिए प्लेटफॉर्म हमेशा समर्पित रहता है।

दुरुपयोग और गाइडलाइन के उल्लंघन

को रोकने के लिए कंपनी लगातार

इस तरह की कार्रवाई करती है।

Read More : Madhur Morning Satta Matka Result 01 Dec.

कंपनी के मुताबिक, वह आर्टिफिशियल

इंटेलिजेंस और अन्य अत्याधुनिक तकनीक,

डेटा वैज्ञानिकों और विशेषज्ञों और

प्रक्रियाओं में निवेश कर रही है।

क्या कहता है नियम

कंपनी यूजर्स की सेफ्टी के लिए लगातार काम कर रही है।

आपको बता दें कि आईटी रूल्स 2021 के

तहत कंपनी डेटा जारी करती है।

इसमें कंपनी खातों पर की गई कार्रवाई के

बारे में बताती है। इसके तहत कंपनी ने

अक्टूबर महीने की रिपोर्ट भी जारी कर दी है।

यह पहली बार नहीं है जब व्हाट्सएप ने

भारतीय खातों पर कार्रवाई की है।

कंपनी पहले भी इस तरह की कार्रवाई

करती रही है और गाइडलाइंस का

उल्लंघन करने पर लाखों अकाउंट्स को

बैन करती रही है। आप ई -मेल संरक्षित,

ईमेल करके भी दुर्भावनापूर्ण खातों की रिपोर्ट कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed