10 दिसंबर को जनमंच में देखें ‘आषाढ़ का एक दिन’

रायपुर। राजधानी रायपुर में सड्डू के जनमंच में रंग श्रृंखला नाट्य मंच और इंपल्स एक्टिंग एकेडमी द्वारा शनिवार यानि 10 दिसंबर को मोहन राकेश के प्रसिद्ध हिन्दी नाटक आषाढ़ का एक दिन का, मंचन किया जाएगा। यह नाटक मानवीय भावनाओं और संचार की जटिलताओं की पड़ताल करता है। नाटक की पृष्टभूमि महाकवि कलिदास और उनका जीवन काल है | कालिदास के महान कवि बनने से पहले और उसके बाद के जीवन इस नाटक का केंद्र है ।

सोनाखान में शहीद वीर नारायण पर छत्तीसगढ़ फिल्म एंड विजुअल आर्ट सोसायटी ने दी नाट्य प्रस्तुति
‘आषाढ़ का एक दिन’ नाटक के भरपूर संवाद उन चीजों को दर्शाता है जिन्हें कोई अनकही छोड़ देते हैं। यह इस सवाल की पड़ताल करता है कि क्या वास्तव में व्यक्तिगत मूल्यों को बनाए रखने में खुशी है? इस नाटक की महिला पात्र अपने मतभेदों को इतनी दृढ़ता से व्यक्त करती हैं, फिर भी साझा अनुभवों से बंधने में विफल रहती हैं। नाटक लिखे जाने के 50 से अधिक वर्षों के बाद, ‘आषाढ़ का एक दिन’ हमें खुद से पूछने के लिए मजबूर करता है कि क्या आज हमारे संघर्ष अलग हैं? यह मंचन एक स्टूडेंट प्रोडक्शन है, जिसे RSNM और इंपल्स एक्टिंग एकेडमी का सपोर्ट है।

आदिवासी महानायकों के संघर्ष पर छत्तीसगढ़ फिल्म एंड विजुअल आर्ट सोसायटी करेगी नाट्य मंचन


बता दें कि आषाढ़ का एक दिन सन 1958 में प्रकाशित नाटककार मोहन राकेश द्वारा रचित एक हिंदी नाटक है।

इसे कभी-कभी हिंदी नाटक के आधुनिक युग का प्रथम नाटक कहा जाता है।

1959 में इसे वर्ष का सर्वश्रेष्ठ नाटक होने के लिए संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया और कईं प्रसिद्ध निर्देशक इसे मंच पर ला चुकें हैं।
1971 में निर्देशक मणि कौल ने इस पर आधारित एक फ़िल्म बनाई जिसने आगे जाकर साल की सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार जीत लिया।

आषाढ़ का एक दिन महाकवि कालिदास के निजी जीवन पर केन्द्रित है, जो 100 ई॰पू॰ से 500 ईसवी के अनुमानित काल में व्यतीत हुआ।

मंच पर –
अम्बिका – अंजू कुजूर
मल्लिका – शैव्या सहारे
मातुल – उमेश चौहान
कालिदास – धनराज साहू

राजपुरुष – सत्यम जंघेल
निक्षेप – प्रियांशु शर्मा
प्रियंगु – मनीषा साहू
विलोम – विवेक निर्मल

मंच परे –
साउंड ट्रैक – युधिष्ठिर सुनानी
लाइट – हीरा मानिकपुरी
मंच व्यवस्था – रंग श्रृंखला नाट्य मंच के साथी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed