Republic Day Special 2023 : शहीद जवानों की याद में ‘अमर वाटिका’ का निर्माण, सीएम भूपेश

Republic Day Special 2023 : शहीद जवानों की याद में 'अमर वाटिका' का निर्माण, सीएम भूपेश

Republic Day Special 2023 : शहीद जवानों की याद में 'अमर वाटिका' का निर्माण, सीएम भूपेश

Republic Day Special 2023 : शहीद जवानों की याद में ‘अमर वाटिका’ का निर्माण, सीएम भूपेश

Republic Day Special 2023 : रायपुर : दिल्ली में इंडिया गेट की तरह छत्तीसगढ़ में ‘अमर वाटिका’ बन रही है।

https://aajkijandhara.com/republic-day-in-cg/

Republic Day Special 2023 : यह अमर वाटिका बस्तर संभाग के जगदलपुर में बन रही है, जहां करीब 60

फीट ऊंचा शहीद स्मारक बनाया गया है. माओवादी मुठभेड़ों में मारे गए 1,200

से अधिक सैनिकों के नाम शहीद स्मारक के पास एक काले ग्रेनाइट की दीवार पर उकेरे गए हैं।

साथ ही पास में एक म्यूजियम भी बनाया जा रहा है। जिसमें नक्सलियों के

खिलाफ लड़ने वाले जवानों के हथियारों और उनकी कार्यप्रणाली की जानकारी

दी जाएगी. प्राप्त जानकारी के अनुसार जगदलपुर और रायपुर के बीच राष्ट्रीय

राजमार्ग-30 के पास अमागुड़ा नामक स्थान पर अमर वाटिका का निर्माण

किया जा रहा है। इसकी निर्माण लागत 40 करोड़ रुपये से अधिक आंकी गई है।

गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस

अमर वाटिका में पहुंचकर जवानों को श्रद्धांजलि देंगे.

सरकारी सूत्रों के अनुसार बस्तर की [रथम] माओवादियों से लड़ते

हुए शहीद हुए जवानों की याद में बनी सबसे बड़ी अमर वाटिका है।

अमर वाटिका के पास ही उड़ान का भी निर्माण किया जा रहा है।

बस्तर संभाग के आईजी सुंदरराज पी ने बताया कि बस्तर में शांति

बहाली के प्रयास किए जा रहे हैं. इस मिशन में शामिल 1,200 से

ज्यादा जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी। इन शहीद जवानों

की याद में अमर वाटिका बनाई जा रही है।

बस्तर आईजी ने कहा कि आने वाले दिनों में बस्तर में सकारात्मक कार्य होंगे।

हमें नई पीढ़ी को बताना है कि बस्तर में शांति लाने के लिए कितने जवान शहीद हुए।

अमर वाटिका में बनने वाले म्यूजियम से लोगों को शहीद जवानों और नेवल फ्रंट

के खिलाफ जारी जंग की जानकारी भी मिलेगी। गौरतलब है कि बस्तर और

राज्य के अन्य नक्सल प्रभावित इलाकों में जिला पुलिस बल के अलावा

सीआरपीएफ, एसटीएफ, सीएएफ, आईटीबीपी, कोबरा, रेलवे पुलिस,

एसएसबी के जवान तैनात हैं. छत्तीसगढ़ राज्य बनने से पहले और बाद में

बस्तर कई बड़ी नक्सली घटनाओं की घाटी है

जिसमें इन जवानों को शहादत खानी पड़ी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed