तीन काले कृषि कानून किसानों की आजीविका पर हमला : कंधे से कंधा मिलाकर किसानों के हक के लिये लड़ेगी कांग्रेस

जयपुर। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं राजस्थान प्रभारी अजय माकन ने कहा है कि केन्द्र सरकार द्वारा पारित तीन काले कृषि कानून किसानों की आजीविका पर हमला है, उनके हकों के लिये कांग्रेस किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ेगी।

माकन ने आज यहां राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों की बैठक में सम्बोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस जिला, ब्लॉक एवं प्रदेश स्तर पर पदयात्राएं, जनसभाएं और किसान सम्मेलन के माध्यम से उनके हकों की लड़ाई लड़ेगी। उन्होंने कहा कि अब तक 150 से ज्यादा किसानों की शहादत हो चुकी है उसकी जिम्मेदारी केन्द्र सरकार को लेनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि हाल ही में सम्पन्न निकाय चुनावों में कांग्रेस को भारी सफलता मिली है। पार्टी को भाजपा से अधिक मत प्राप्त हुए हैं, कांग्रेस के अधिक पार्षद जीते हैं और प्रदेश के अधिकतर निकायों में कांग्रेस बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। इस सफलता के लिये पार्टी के तमाम कार्यकर्ताओं तथा प्रदेश पदाधिकारियों को हार्दिक बधाई। उन्होंने कहा कि संगठन को हम इतना सशक्त करना चाहते हैं कि व्यक्ति सरकार की बजाए पार्टी में काम करना बेहतर समझे। इसके लिये आगामी दिनों में प्रभारी मंत्री अपने से संबंधित जिलों के दौरे पर जाने से पूर्व प्रदेश कांग्रेस कमेटी को सूचित करेंगे ताकि संगठन प्रभारी, प्रभारी मंत्री के साथ उपस्थित रहकर उस जिले के महत्वपूर्ण निर्णयों में संगठन की भूमिका का पूर्ण निर्वहन कर पायें।

बैठक को सम्बोधित करते हुए राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष श्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने हाल ही में सम्पन्न हुए नगर निकाय चुनावों में कांग्रेस पार्टी को मिली भारी सफलता के लिये प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सभी पदाधिकारियों को बधाई देते हुए उनके द्वारा की गई कड़ी मेहनत के लिये उनका आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि जिला प्रभारी अपने प्रभार वाले क्षेत्र के अन्तर्गत निर्णय लेने के लिये स्वतंत्र हैं जिससे पार्टी और अधिक मजबूत हो सके। उन्होंने कहा कि जिन निकायों में पार्टी के अध्यक्ष नहीं बनते हैं वहॉं पर शीघ्र से शीघ्र नेता प्रतिपक्ष नियुक्ति करें ताकि निकायों के अन्तर्गत एक सशक्त विपक्ष की भूमिका का निर्वहन किया जा सके।

श्री डोटासरा ने कहा कि निकाय चुनावों में जो निवर्तमान में पार्षद थे, जिन्हें पार्टी ने टिकिट नहीं दिया और जिन्होंने पार्टी के अनुशासन में रहते हुए संगठन हित में कार्य किया उनका आगामी दिनों में होने वाली सरकारी नियुक्तियों तथा संगठन में समायोजन किया जायेगा। उन्होंने प्रदेश पदाधिकारियों से मिले सुझावों पर शीघ्र क्रियान्विति करने का भरोसा दिलाया।

बैठक में प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष श्री रामलाल जाट, श्री गोविन्द मेघवाल, श्री हरिमोहन शर्मा, महासचिव श्री जी.आर. खटाणा, सचिव श्रीमती शोभा सोलंकी, श्री गजेन्द्रसिंह सांखला, श्री फूलसिंह ओला, श्री महेन्द्रसिंह खेड़ी, श्री सचिन सर्वटे ने भी अपने विचार व्यक्त किये। मंच का संचालन मुख्यालय सचिव श्री ललित तूनवाल द्वारा किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *