लीजेंड आलराउंडर पूर्व कप्तान कपिल देव ने खारिज किया दो कप्तानों का विचार

नयी दिल्ली। भारत के पहले विश्व कप विजेता कप्तान और लीजेंड आलराउंडर कप्तान कपिल देव ने टीम इंडिया के टेस्ट और सीमित ओवरों की कप्तानी बांटने के विचार को सिरे से खारिज करते हुए कहा है कि भारतीय संस्कृति दो कप्तानों की नहीं है और विराट कोहली अगर टी-20 में अच्छा कर रहे तो उन्हें कप्तान बने रहने देना चाहिए।
संयुक्त अरब अमीरात में हालिया संपन्न हुए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में रोहित शर्मा की अगुवाई वाली मुंबई इंडियन्स विजेता बनी। यह टीम का पांचवा आईपीएल खिताब था और उसने सभी खिताब रोहित की अगुवाई में जीते हैं। वहीं विराट की टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु को एलिमिनेटर में सनराइजर्स हैदराबाद से हार का सामना करना पड़ा था।
विराट की कप्तानी में लगातार आठवें साल बेंगलुरु की टीम खिताब तक नहीं पहुंच पायी जिसके बाद पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर सहित कई क्रिकेटरों ने कहा था कि विराट की जगह भारत की टी-20 की कप्तानी अब रोहित को सौंप देनी चाहिए।
1983 विश्वकप विजेता टीम के कप्तान कपिल ने हिन्दुस्तान टाइम्स की वर्चुअल समिट के दूसरे दिन कहा, ‘‘मैं पहले अपनी संस्कृति देखता हूं। हमारे यहां दो कप्तानों का विचार नहीं चलता। क्या एक कंपनी में दो सीईओ हो सकते हैं। अगर विराट टी-20 में अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं तो उन्हें टीम का कप्तान बने रहने देना चाहिए। ”
कपिल को अक्टूबर के आखिरी सप्ताह में दिल का दौरा पड़ा था और उनकी राजधानी दिल्ली के एक अस्पताल में एंजियोप्लास्टी सर्जरी हुई थी। कपिल स्वस्थ होकर गोल्फ कोर्स में लौटे थे और अब उन्होंने वर्चुअल रूप से इस समिट में हिस्सा लिया।
कपिल का मानना है कि अलग-अलग कप्तान होने से टीम को सामंजस्य बैठाने में दिक्कत आएगी। उन्होंने कहा, ‘‘प्रत्येक प्रारूप में हमारी 80 प्रतिशत टीम समान है। खिलाड़ियों को अलग-अलग विचारों वाले कप्तान पसंद नहीं है। इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका की बात अलग है। उनकी मानसिकता और संस्कृति अलग है। लेकिन हमारे यहां दो कप्तानों का विचार खिलाड़ियों में उलझन पैदा करेगा। ”
उन्होंने कहा, ‘‘अगर विराट सीमित ओवरों में उपलब्ध नहीं होते हैं तो फिर नए कप्तान के लिए सोचा जा सकता है। लेकिन जब तक वह अपनी सेवाएं दे रहे हैं तब तक उन्हें टीम की अगुवाई करने देना चाहिए। मेरे ख्याल में दो-तीन खिलाड़ी हैं जो विराट की गैर मौजूदगी में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। ”
विराट को उनकी आईपीएल टीम की कप्तानी से हटाने की मांग कर चुके गंभीर ने कहा था कि यदि रोहित भारत के कप्तान नहीं बनते तो यह भारत का नुकसान है रोहित का नहीं। गंभीर ने कहा था कि रोहित ने पांच आईपीएल खिताब जीत लिए हैं और वह आईपीएल के इतिहास में सबसे सफल कप्तान हैं। उन्होंने कहा,“ यह शर्मनाक होगा कि यदि इसके बाद भी उन्हें सफ़ेद बॉल क्रिकेट में भारत का कप्तान नहीं बनाया जाता। रोहित इससे ज्यादा कुछ नहीं कर सकते हैं।” गंभीर ने कहा कि रोहित इन फॉर्मेट में विराट से बेहतर कप्तान हैं। टीम प्रबंधन को कप्तानी को बांट देना चाहिए। यह बुरा विचार नहीं है।
इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान का भी कहना था कि टी-20 की कप्तानी रोहित को देने से विराट का बोझ कम होगा। वान ने कहा कि यह बेहतर होगा कि भारत की टी-20 टीम का कप्तान रोहित को बनाया जाए। कप्तानी बांटने से विराट को वनडे और टेस्ट की कप्तानी संभालने में ज्यादा आसानी होगी। पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने रोहित को इस फॉर्मेट में सर्वश्रेष्ठ कप्तान बताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *