सब कुछ मोबाइल तो हम क्या करें

आलोक पुराणिक
गूगल की नयी तकनीक आ गयी है, जिसके जरिये हार्ट रेट, श्वसन रेट की गणना हो सकेगी। बंदा मोबाइल के जरिये ये सब कैलकुलेट कर लेगा।
एप्पल मोबाइल के जरिये ईसीजी पहले ही संभव थी। अब मोबाइल ही हार्ट रेट नाप लेंगे, मोबाइल ही ईसीजी कर लेगा। कुछ दिनों बाद कोई मोबाइल हार्ट का आपरेशन भी करने लगेगा। पढऩे-पढ़ाने का काम तो मोबाइल के जरिये हो रहा है।
सब कुछ मोबाइल ही करेगा तो हम क्या करेंगे जी। कुछ दिनों बाद ऐसा मोबाइल भी आ जायेगा, जो बतौर मंत्री काम कर सकेगा, पर मंत्री के मुकाबले कम पैसे खायेगा। कमाल है जी। इसमें भी परम कमाल हो जायेगा जब कोई चाइनीज मोबाइल आकर बतायेगा कि हम तो बहुत सस्ते में काम करवाते हैं। इंडियन तो महंगे होते हैं, चूज चाइनीज, सस्ते।
घड़ी का धंधा मंदा, मोबाइल टाइम बता रहा है। म्यूजिक प्लेयर क्यों चाहिए, मोबाइल में है। अब तो अधिकांश टीवी चैनल यूट्यूब पर हैं, काहे को घर में केबल कनेक्शन चाहिए। ना-ना, घर पर खाना क्यों बनाना है, जोमाटो, स्विगी हैं जी।
व्हाट्सएप पर तमाम तरह के वैद्य भारत की जनता को तरह-तरह के तेलों, दवाओं से मर्द बनाने में लगे हुए हैं और एक कलाकार बिरयानी से नामर्द बना रहा है। लंतरानी का मतलब और चंडूखाने का अर्थ व्हाट्सएप पर समझ में आ जाता है। ऑनलाइन चंडूखाना खुला हुआ है, सुबह से शाम तक दे दनादन चल रही हैं खबरें। एक खबर व्हाट्सएप पर आयी कि आसमान में प्लाट कट रहे हैं, आवेदन किया जा सकता है। अमेरिका में एक बड़े उद्योगपति भी अंतरिक्ष में कालोनी बनाने पर काम कर रहे हैं। इसलिए चंडूखाने और ऑनलाइन चंडूखाने को सीरियसली लेना चाहिए। इधर तकनीक ने एक काम अद्भुत कर दिया है, झूठ और सच का भेद मिट गया है। फोटोशाप के जरिये अकबर नेहरूजी से विमर्श करते दिख सकते हैं-महाराणा प्रताप अभी भी हल्दी घाटी में घोड़ा दौड़ाते दिख सकते हैं।
खैर, आप कुछ न करें, सब कुछ मोबाइल करेगा, आप खाली समय में बस व्हाट्सएप देखें। व्हाट्सएप वाले सब कुछ देख रहे हैं। आप व्हाट्सएप पर किसी मित्र को लिखें कि मुझे मोबाइल खऱीदना है। फिर आपको मोबाइल पर मोबाइल के इश्तिहार दिखना शुरू हो जायेंगे।
डाक्टरी का कामकाज भी मोबाइल और गूगल के जरिये होने लगेगा तो मामला बहुत पेचीदा हो जायेगा। बंगाली डाक्टर, आयुर्वेदिक डाक्टर, प्राकृतिक चिकित्सा वाले डाक्टर की तर्ज पर बंगाली मोबाइल, आयुर्वेदिक मोबाइल जैसे आइटम देखने पड़ेंगे। देखना पड़ेगा जी, जाने क्या-क्या देखना पड़ेगा। अभी व्हाट्सएप पर एकदम प्रामाणिक खबर आयी है—मुहम्मद तुगलक नामक सुल्तान ने व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी से ही ग्रेजुएशन किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *