100वां टेस्ट खेलने उतरेंगे ईशांत शर्मा, कपिल देव के बाद बनेंगे दूसरे भारतीय पेसर

नई दिल्ली । 32 वर्षीय ईशांत ने साल 2007 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में अपने टेस्ट करियर की शुरुआत बांग्लादेश के खिलाफ मीरपुर में की थी। इसके बाद से इस भारतीय पेसर ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। ईशांत ने इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा सीरीज में टेस्ट क्रिकेट में अपने विकेटों का तिहरा शतक पूरा किया था। इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच में मैदान पर उतरने के साथ दाएं हाथ के गेंदबाज ईशांत 100 टेस्ट खेलने वाले भारत के दूसरे तेज गेंदबाज बन जाएंगे। ईशांत से पहले भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और दिग्गज ऑलराउंडर कपिल देव यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं। ईशांत ने अब तक 99 टेस्ट मैचों में कुल 302 विकेट अपने नाम किए हैं। इस दौरान एक पारी में उनकी बेस्ट गेंदबाजी 74 रन देकर 7 विकेट है। ईशांत ने इस दौरान 18, 420 गेंदें फेंकी है जिसमें 9731 रन खर्च किए हैं। 11 बार उन्होंने 5 विकेट हॉल अपने नाम किए हैं। यदि ईशांत को इंग्लैंड के खिलाफ डे नाइट टेस्ट के प्लेइंग ङ्गढ्ढ में शामिल किया जाता है तो वह 100 टेस्ट खेलने वाले 12वें भारतीय बन जाएंगे। भारत की ओर से सचिन तेंडुलकर (200), राहुल द्रविड़ (163), सुनील गावसकर (125), वीवीएस लक्ष्मण (134), वीरेंदर सहवाग (103), सौरभ गांगुली (113), दिलीप वेंगसरकर (116), कपिल देव (131), अनिल कुंबले (132) और हरभजन सिंह (103) 100 या इससे अधिक टेस्ट खेल चुके हैं। ईशांत ने अब तक सिर्फ एक पिंक बॉल टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें उनके नाम कुल 9 विकेट दर्ज है। दाएं हाथ के ईशांत ने बांग्लादेश के खिलाफ ईडन गार्डंस में खेले गए पिंक बॉल टेस्ट मैच की पहली पारी में 22 रन देकर 5 और दूसरी पारी में 56 रन देकर 4 विकेट चटकाए थे। अपने दोस्तों के बीच लंबू के नाम से फेमस ईशांत 2007 में टेस्ट डेब्यू के बाद से चोट और खराब फॉर्म की वजह से 45 टेस्ट मैच नहीं खेल पाए। जिन टेस्ट मैचों में इशांत नहीं खेले उसमें भारत की जीत का प्रतिशत 57.78 रहा। इसके अलावा जिन 99 टेस्ट में ईशांत ने गेंदबाजी की उसमें टीम इंडिया की जीत का प्रतिशत 45.45 रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *