एनजेसीएस बैठक से पहले मंथन तेज, श्रमिकों ने भी मांगा हक

 

भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों के वेतन समझौता को लेकर 27 फरवरी को दिल्ली में एनजेसीएस की बैठक होनी है। इसके पहले एनजेसीएस सदस्य यूनियन नेताओं के बीच मंथन का दौर तेज हो गया है। किसी भी तरह से इस बैठक में सहमति बन जाए इसके प्रयास किए जा रहे हैं।

यह बात भी सामने आ रही है कि बेहतर एमजीबी अथवा एरियर दोनों में से एक ही मिल सकता है। इधर इन सबके बीच बुधवार को सेक्टर-1 में बीएसपी के ठेका श्रमिकों ने प्रदर्शन किया। उन्होंने मांग रखी की एनजेसीएस की बैठक में उनकी सुविधा और बेहतर वेतन का मुद्दा भी रखा जाए। सेल चेयरमैन व भिलाई इस्पात संयत्र के मुखिया के नाम 12 सूत्रीय मांग पत्र भी सौंपा।

स्टील वर्कर्स फेडरेशन आफ इंडिया के आह्वान पर आज सेल की तमाम इकाइयों में ठेका श्रमिकों द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया। इसी के तहत भिलाई इस्पात संयंत्र के आइआर गेट के समक्ष हिंदुस्तान इस्पात ठेका श्रमिक यूनियन सीटू के बैनर तले ठेका श्रमिकों ने प्रदर्शन किया।

उन्होंने नियमित कर्मियों के वेतन समझौता के साथ साथ ठेका श्रमिको के वेतन में वृद्घि सहित सुविधाओ में बढोत्तरी सहित अन्य मांग रखते हुए कहा कि आज नियमित कर्मियों व ठेका श्रमिकों के साथ भेदभाव मिटा कर ही बेहत्तर उत्पादन व नया कीर्तिमान गढ़ सकते हैं।

सीटू ठेका प्रकोष्ठ के योगोश सोनी ने कहा कि हिंदुस्तान इस्पात ठेका श्रमिक यूनियन सीटू ने सेल चेयरमैन व भिलाई इस्पात संयंत्र के निदेशक प्रभारी के नाम ज्ञापन सौंपा है।

संयंत्र के कर्मचारियों के लंबित वेतन समझौता को लेकर दो माह के भीतर एनजेसीएस (नेशनल ज्वाइंट कमेटी फार स्टील इंडस्ट्री) की तीसरी बैठक 27 फरवरी को है। बीते बैठक में वेतन समझौता की अवधि पांच-10 साल को लेकर मामला अटका था।

एनजेसीएस यूनियन सदस्यों की मानें तो प्रबंधन बेहतर एमजीबी अथवा एरियर दोनों में से एक ही देने की मंशा में है। सेल के अफसरों ने इसके संकेत भी दिए हैं। इस वजह से यूनियन के पदाधिकारियों ने मंथन तेज कर दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *